दशहरा मनाने का कारण विजयादशमी क्यों मनाई जाती है निबंध महत्व

दशहरा मनाने का कारण विजयादशमी क्यों मनाई जाती है : आप सभी को दशहरा 2018 की हार्दिक शुभकामनाएंDussehra 2018: Dussehra essay in hindi दशहरा पर निबंध ( Essay on Dussehra / Dussehra Par Nibandh ) में आपके लिए विजयादशमी का अंग्रेजी निबंध ( Dussehra essay in English ) में तो कोई दशहरा पर निबंध हिंदी आदि के रूप में आप खोज कर रहे हैं तो आप सही स्थान पर हैं. इस आर्टिकल में हम आगे बात करेगे कि दशहरा क्यों मनाते हैं & दशहरा का महत्व क्या हैं. 

दशहरा क्यों मनाया जाता हैदशहरा क्यों मनाया जाता है

दशहरा कब मनाया जाता है, दशहरा कब है 2018, कारण है कि हम दशहरा मनाते हैं, दशहरा का महत्व, दशहरा पर निबंध लिखे Dussehra 2018- Dussehra essay in hindi विजयादशमी पर निबंध ( Essay on Dussehra / Dussehra Par Nibandh): भारत के ऐतिहासिक त्योहारों में से एक दशहरा जिसे भारत एवं दुनियां के कई अन्य देशों में भी श्रद्धाभाव एवं पूर्ण उत्साह के साथ मनाया जाता हैं. इस वर्ष 19 अक्टूबर को भारत में दशहरा अर्थात विजयादशमी का पर्व मनाया जाना हैं. दशहरा मनाने का कारण क्या है यह यह एक छोटा सा हिंदी निबंध हैं जिन्हें हमने विडियो और लेखन दोनों रूपोंमें आपके समक्ष रखने का प्रयत्न किया हैं.

why we celebrate dussehra in hindi (दशहरा क्यों मनाया जाता है)

all information on Dussehra Festival, Dussehra Essay In Hindi for Students दशहरा पर निबंध / Essay on Dussehra in Hindi Dussehra (Dasara), Vijaya Dashami, is a famous Hindu festival  seeks to celebrate the victory of good over evil: बासन्तीय नवरात्र जो आश्विन प्रतिपदा तिथि से आरम्भ होते है जो नवमी तिथि तक चलते हैं. इसके पश्चात दसवें दिन को दशहरे के रूप में एक साथ सम्पूर्ण देश में मनाया जाता हैं. देश के कोने कोने में विशाल मेले भरते हैं. सांयकाल को रावण कुम्भकर्ण एवं मेघनाद के पुतले जलाए जाते हैं. अंग्रेजी कलैंडर के अनुसार बुराई पर अच्छाई की विजय का प्रतीक यह पर्व सितम्बर या अक्टूबर माह में पड़ता हैं. इस दिन को लोग महान पर्व के रूप में मनाते हैं.

दशहरा क्यों मनाया जाता है?

हिन्दुओं की सबसे पवित्र धर्म रचना रामायण की कथा के अनुसार माता कैकेयी के एक वचन के कारण दशरथ को अपने प्रिय पुत्र राम को चौदह वर्ष का वनवास देना पड़ा था. इस अवधि में उनके साथ भाई लक्ष्मण एवं पत्नी सीता भी थी. उसी समय लंका पति रावण द्वारा एक दिन धोखे के साथ सीता का हरण हो जाता हैं. इसके बाद राम व लक्ष्मण सीता की तलाश के लिए निकल जाते हैं. उनका साथ देने के सुग्रीव की सेना व उनके सेनापति हनुमान अंगद भी उनके साथ आते हैं. तभी सीता की खोज कर ली जाती हैं. इसी नवरात्र की अवधि में सीता को लेकर राम एवं रावण के मध्य युद्ध होता हैं.

इस युद्ध में विजय पाना भगवान् राम के लिए परिहार्य था. अतः उन्होंने माता दुर्गा की नवरात्री के दिनों कठोर तपस्या कर विजया के मुहूर्त में विजयी भव का आशीर्वाद लेकर रण भूमि में गये और अन्यायी रावण का वध किया. इस तरह से दुर्गा शक्ति के सहयोग से एक अन्यायी पर न्याय का साथ देने वाले प्रभु श्रीराम की विजय हुई. यह नवरात्रि का अगला दिन था जिसे दशहरा के रूप में मनाया जाता हैं. इस दिन विजया मुहूर्त होने के कारण विजयादशमी भी कहा जाता हैं.

दशहरा 2018

विजयादशमी एक ऐसा उत्सव है जो लोगों में एक नई ताकत नई उड़ान फुकने का कार्य करता हैं. आमजन के दिलों पर अच्छाई का आदर्श स्थापित कर मन के मेल एवं कुप्रव्रतियो को समाप्त करने का आव्हान करता हैं. यह पर्व हमें बार बार याद दिलाता है कि अहंकार घमंड एवं अन्याय एक नाश एक दिन निश्चित हैं इसलिए हमेशा हम सत्य एवं न्याय का मार्ग ही चुने.

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *