Very Short Essay On Janmashtami In Hindi- कृष्ण जन्माष्टमी पर छोटा निबंध

Very Short Essay On Janmashtami In Hindi- कृष्ण जन्माष्टमी पर छोटा निबंध: गोकुल ब्रज के नंदलाला भगवान् कृष्ण जी का जन्मदिन जन्माष्टमी के रूप में भारत भर में मनाया जाता हैं. Janmashtami Essay In Hindi में आपकों बता दे इस साल 2 सितम्बर 2018 को कृष्ण जन्माष्टमी का पर्व है, जिन्हें भक्त पूर्ण हर्षोल्लास के साथ मनाते है. यशोदा के पुत्र कृष्ण हिन्दू धर्म के आदि भगवानों में गिने जाते हैं. श्याम जी के मन्दिर भारत के हर कोने में देखे जा सकते है जन्माष्टमी के दिन उसमें विशेष पूजा तथा झाकी भी निकाली जाती हैं.

Essay On Janmashtami In Hindi- कृष्ण जन्माष्टमी निबंधEssay On Janmashtami In Hindi- कृष्ण जन्माष्टमी पर छोटा निबंध

कृष्ण जन्माष्टमी 2018 कब है और क्यों मनाई जाती है : – हिन्दुओं के सबसे बड़े पर्व रक्षाबंधन के आठ दिन बाद कृष्ण जन्म अष्टमी का त्योहार मनाया जाता है. यह केवल भारत में ही नही बल्कि दुनिया के कई देशों में भी मनाया जाता है. सदियों से आस्था का केंद्र रही भारतीय तपोभूमि पर यशोदा माँ के लाल की रासलीलाएँ और उनकी बाल लीलाएं आज भी देखने को आँखे तरस आती है.
जन्माष्टमी कथा-कृष्ण जी की माता का नाम देवकी और पिता का नाम वासुदेव था. उस समय मथुरा नगरी का शासक देवकी का भाई कंस था. जिन्हें भविष्यवाणी हुई कि उनकी मृत्यु वासुदेव-देवकी पुत्र के हाथों से होगी. इस कारण वह अब तक देवकी की सात संतानों को मार चूका था. तथा अपनी बहिन व बहनोई को जेल में बंद कर दिया था. यही पर उनकी आठवी सन्तान के रूप में भाद्रपद कृष्ण शुक्ल अष्टमी के दिन कृष्ण जी का जन्म होता है विष्णु जी के आदेश के अनुसार उन्हें गोकुल गाँव के नन्दबाबा व जसोदा के घर भेज दिया जाता है.
यही पर कृष्ण जी का बालपन व्यतीत होता है. गोकुल वासी भादों कृष्ण अष्टमी को कृष्णजन्माष्टमी के रूप में मनाने लगे, जो परम्परा आज तक चली आ रही हैं. जन्माष्टमी को गोकुलाष्टमी, कृष्णाष्टमी, श्रीजयंती के नाम से भी जाना जाता है. महाराष्ट्र में जन्माष्टमी के दिन दही हांडी का उत्सव इस दिन विशेष आकर्षण का केंद्र होता हैं.

जन्माष्टमी के दिन कृष्ण लला के मन्दिरों की विशेष सजावट का कार्य भी किया जाता हैं, भक्तों द्वारा विभिन्न मन्दिरों से झाकियां निकालकर रासलीला का आयोजन भी किया जाता हैं.मथुरा व गोकुल कृष्ण जी की जन्मस्थली मानी जाती है. जन्माष्टमी के दिन देश विदेश से लाखों लोग यहाँ पर आते हैं. तथा भगवान् के दर्शन करते हैं.

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *