दशहरा कब क्यों और कैसे मनाया जाता हैं | Dussehra Vijayadashami 2018 Date

दशहरा कब क्यों और कैसे मनाया जाता हैं | Dussehra Vijayadashami 2018 Date: हिन्दुओं का सबसे बड़े पर्वों में से एक हैं जिन्हें विजयादशमी भी कहते हैं. VIJYA DASHMI & dussehra kaise manaya jata hai वर्ष 2018 में दशहरा कब हैं इसका मेला कहा भरता हैं इसे कैसे और क्यों मनाया जाता हैं कहानी के साथ आपकों Vijayadashami 2018 के इस लेख में विस्तार के साथ बता रहे हैं.

दशहरा कब क्यों कैसे मनाते हैं | Dussehra Vijayadashami In Hindidussehra kab hai

dussehra kab hai दशहरा क्यों और कैसे मनाया जाता है dasara in hindi: हर साल आश्विन माह की दशमी तिथि को विजयादशमी का पर्व मनाया जाता हैं. यह एक दीपावली से जुड़ा हुआ पर्व भी हैं. जिसकी कथा अयोध्या नरेश भगवान् श्रीराम के साथ जुड़ी हुई हैं. ऐसा माना जाता हैं कि इसी दिन रामचन्द्र जी द्वारा रावण का वध किया गया था.

Dussehra Vijayadashami 2018 Date

आपकों बताते है कि इस साल 2018 दशहरा कब है? दशहरा (विजयदशमी) 2018 [Dussehra Vijayadashami 2018 Puja Time] 2018 में दशहरा 19 अक्टूबर 2018, शुक्रवार के दिन भारत में मनाया जाएगा, जिसका मुहूर्त समय तिथि इस प्रकार है जो निचे दर्शाया गया हैं.

विजयदशमी पूजा मुहूर्त (Vijayadashami Puja Muhurat)

  • दशमी तिथि लगने की तिथि एवं समय = 15:28 (18 अक्टूबर 2018)
  • दशमी तिथि के समापन की तिथि और समय = 17:57 (19 अक्टूबर 2018)
  • दशहरा का विजय मुहूर्त = 13:58 से 14:43 तक
  • अपराह्न मुहूर्त = 13:13 से 15:28 तक

दशहरा विजयादशमी क्यों मनाया जाता है.

विजया दशमी मनाने का सबसे बड़ा कारण इसके पीछे जुड़ी कथा हैं. जिसके अनुसार रावण द्वारा सीता के हरण के बाद वह उन्हें लंका ले जाता हैं. भगवान् राम अपनी वानर सेना के साथ आश्विन नवरात्र में उससे युद्ध करते हैं तथा नवरात्रि में दुर्गा पूजन के बाद वे दसवें दिन रावण का वध कर देते हैं. इस तरह से अन्याय पर न्याय की विजय के रूप में दशहरा का पर्व मनाया जाता हैं.

इस धार्मिक महत्व के अतिरिक्त कई अन्य और कारण भी है जिसके कारण दशहरा मनाया जाता हैं. इस समय तक कृषक अपने खरीफ की फसल को काट चुके होते हैं तथा अपने भगवान् को भोग लगाकर इस दिन उनका धन्यवाद भी ज्ञापित करते हैं.

विजयादशमी पर कई स्थानों पर मेले भी भरते हैं. जहाँ पर रावण कुंभकर्ण एवं मेघनाद के पुतले जलाएं जाते हैं तथा राम लक्ष्मण जानकी की रथयात्रा भी निकाली जाती हैं. यह आयुध पूजा का दिन भी हैं. लोग अपने हथियारों अस्त्र शस्त्रों की पूजा करते हैं. दशहरा के मुहूर्त को साल के सबसे अच्छे मुहूर्तों में भी गिना जाता हैं. इस दिन शुरू किया गया कार्य सफल रहता हैं इस कारण लोग नयें कार्य एवं व्यवसाय की शुरुआत भी इसी दिन से करते हैं.

विजयदशमी 2018- दशहरा कैसे मनाया जाता है

दशमी तिथि को विजय का प्रतीक दशहरा मनाया जाता हैं इसलिए इसका नाम विजया दशमी भी रखा गया हैं. एक अन्य धार्मिक मान्यता के अनुसार इस दिन का महत्व देवी विजया के साथ भी जुड़ा हुआ हैं. इस दिन के विजय लग्न में किया गया हर कार्य शुभ होता हैं.

देशभर में विविध स्थानों पर दशहरा अलग अलग तरीके से मनाया जाता हैं. कई स्थानों के मेले प्रसिद्ध हैं जिनमें नव दिन की रामलीला के बाद रावण कुम्भकर्ण एवं रावण के पुत्र मेघनाद तीनों के पुतले बाण के साथ जलाएं जाते हैं. इस तरह के आयोजनों के द्वारा अहंकार, न्याय, काम, क्रोध, लोभ, मोह, वासना रूपी रावण को समाप्त का संदेश हमें इस तरह उत्सव देते हैं.

माँ भगवती दुर्गा के भक्तों के लिए विजया दशमी का महत्वपूर्ण हैं. नव दिनों तक नवरात्रि के व्रत के बाद माँ भगवती द्वारा उन्हें विजयी होने का आशीर्वाद इसी दिन मिलता हैं. इस तरह बुराइयों का नाश कर अच्छाई की राह पर जीवन जीने का संदेश देता हैं.

आशा करता हूँ मित्रों आपकों दशहरा कब क्यों और कैसे मनाया जाता हैं का यह लेख अच्छा लगा होगा यदि आप दशहरा 2018 इन हिंदी का यह आर्टिकल पसंद आया हो तो प्लीज इसे सोशल मिडिया पर जरुर शेयर करे. यदि आप दशहरा पर निबंध भाषण कविता शायरी इत्यादि के अन्य लेख पढ़ना चाहते है तो निचे दियें गये सम्बन्धित पोस्ट के कोर्नर में जाए.

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *