Sadbhavana Diwas Essay In Hindi- सद्भावना दिवस पर निबंध

Sadbhavana Diwas Essay In Hindi: सद्भावना दिवस 20 अगस्त 2018 को पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की जन्म जयंती के रूप में मनाया जाता हैं. सद्भावना दिवस पर निबंध (Essay On Sadbhavana Diwas) इस दिन को समरसता दिवस भी कहा जाता हैं. सद्भावना का अर्थ होता है सभी के प्रति समान भाव रखना. कोई भी भारतीय नागरिक जो किसी अन्य व्यक्ति को बिना जाति, धर्म, सम्प्रदाय, भाषा, क्षेत्र की नजर से देखकर केवल उन्हें एक इंसान के रूप में देखता है तो उस व्यक्ति की यही मानवीय भावना सद्भावना हैं. sadbhavana diwas essay in hindi, sadbhavana diwas par nibandh में हम आपकों इस शब्द के महान अर्थ और व्याख्या सहित आज के भारतीय समाज में सद्भाव की स्थति व आवश्यकता पर बात करेगे.

Sadbhavana Diwas Essay In Hindi- सद्भावना दिवस पर निबंधSadbhavana Diwas Essay In Hindi- सद्भावना दिवस पर निबंध

दूसरों के प्रति अच्छे विचार रखना ही सद्भावना या समरसता हैं. पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी एक ऐसे भारत का सपना देखते थे, जहाँ हर व्यक्ति की अपने कार्यों व उपलब्धियों से उनकी पहचान हो, न कि उसकी जाति और धर्म को मापदंड बनाकर श्रेष्ट अथवा निकृष्ट माना जाए. राजीव काल में इस तरह के कई प्रयास भी किये गये जिसका उद्देश्य भारतीय समाज के बिच की दूरियों को समाप्त करना था.

सद्भावना दिवस के अवसर पर हर व्यक्ति जो सद्भाव पूर्ण भारत को देखना चाहता है वो यह प्रतिज्ञा कर व्रत लेता है कि व्यक्ति को जाति धर्म जैसे संकुचित दायरों को न सोचकर वह भावनात्मक रूप से एकात्मकता लाने की दिशा में कार्य करते हुए, भेदभाव जैसे क्रत्यों से समाज को मुक्त करवा देगा.

कांग्रेस पार्टी द्वारा अपने दिग्गज नेता राजीव गांधी के जन्मदिन को सेलिब्रेट करने के लिए एक विशेष कार्यक्रम का आयोजन किया जाता हैं. दीपक, पुप्पंजली के साथ स्वर्गीय प्रधानमंत्री को श्रद्धांजलि भेट की जाति हैं. सभी छोटे बड़े राजनेता इस सद्भावना दिवस कार्यक्रम में सम्मिलित होते हैं तथा इस दिन सद्भावना संदेश रैली भी निकाली जाती हैं.

कई तरह के कार्यक्रम तथा प्रतियोगिताओं का आयोजन भी करवाया जाता हैं, मुख्य रूप से पर्यावरण संरक्षण से जुड़े कार्यक्रम जिनमें पौधारोपण आदि का आयोजन होता हैं. साथ ही लोगों को अपने पर्यावरण की रक्षा का संदेश भी दिया जाता हैं. इस दिन की परम्परा के अनुसार हर साल प्रतिभागियों को राजीव गांधी नेशनल सद्भावना अवार्ड से नवाजा जाता हैं. मदर टेरेसा, सुनील दत्त, लता मंगेशकर, उस्ताद बिस्मिल्लाह खान, के आर नारायण, जगन् नाथ कॉल, दिलीप कुमार जैसे बड़े नाम इस खिताब को पा चुके हैं.

कांग्रेस के पुरोधा नेता राजीव का पूरा नाम राजीव फिरोज गांधी था. इनका जन्म औपनिवेशिककालीन भारत के बम्बई शहर में 20 अगस्त, 1944 को हुआ था. इनके पिता का नाम फिरोज गाँधी और माता का नाम इंदिरा गांधी था. राजीव का विवाह इटली की सोनिया गांधी के साथ सम्पन्न हुआ. राजनीति में आने से पूर्व ये पायलट थे. 1981 में उन्होंने अमेठी में पहली बार चुनाव लड़े तथा विजयी हुई. वर्ष 1983 में इन्हें कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव का पद सौपा गया.

31 अक्तुबर, 1984 के दिन उनकी माँ एवं पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या के बाद राजीव गांधी ही कार्यवाहक प्रधानमंत्री बनाए गये थे. अगले साल 1985 में हुए आमचुनावों में इन्हें भारी बहुमत से विजय मिली. जिसका बड़ा कारण सहानुभूति, नया जोश व नई सोच को माना जाता हैं. 21 मई, 1991 को मद्रास से 50 किमी. दूर स्थित श्री पेरुंबुदुर में एक सभा में हुए आत्मघाती हमले में राजीव गांधी का देहांत हो गया था. इस तरह मित्रता, मिलनसार तथा युवा युग का पुरोधा हमेशा हमेशा के लिए गहरी नीद में समा गया.

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *