दिवाली पर अनुच्छेद | Paragraph On Diwali In Hindi

दिवाली पर अनुच्छेद | Paragraph On Diwali In Hindi

Paragraph On Diwali In Hindi: आज हम Diwali Paragraph के रूप में मेरे प्रिय त्योहार दिवाली पर कुछ लाइन व वाक्य के साथ दीपावली के निबंध व भाषण के रूप में आपके समक्ष शोर्ट Paragraph में रख रहा हूँ. यह पर्व क्यों मनाया हैं. दिवाली की कथा, मनाने का तरीका, इतिहास पर दिवाली निबंध प्रस्तुत कर रहे हैं. कक्षा 1,2,3,4,5,6,7,8,9,10 के स्टूडेंट्स इन्हें दीपावली फेस्टिवल एस्से के रूप में भी याद कर सकते हैं.

Paragraph On Diwali In Hindiदिवाली पर अनुच्छेद | Paragraph On Diwali In Hindi

दिवाली पर निबंध – Essay on Diwali in Hindi: दीपावली का अर्थ है दीप + अवली यानि दीपों की पंक्ति. यह प्रकाश का उत्सव हैं. सम्रद्धि एवं खुशहाली को जीवन में लाने वाला पर्व हैं. कार्तिक महीने की अमावस्या तिथि को मनाया जाता हैं. इस शुभ रात्रि को काले अन्धकार से भरी रात्रि को दीपक के उजियाले से पूर्णिमा की चांदनी रात का स्वरूप दे दिया जाता हैं. इस तरह यह पर्व तामसी ताकतों के विनाश एवं आध्यात्म शक्ति की विजय के पर्व के रूप में मनाया जाता हैं. इस सम्बन्ध में कथा है कि प्रभु श्री राम इसी दिन रावण का वध कर लंका से लौटे थे. इस दिन अयोध्या में घर घर घी के दिए जलाएं और प्रभु के आगमन को दीपोत्सव के रूप में मनाया गया.

दिवाली के बारे में जानकारी हिंदी में

दीपावली के दिन माता लक्ष्मी एवं गणेश जी का पूजन भी किया जाता हैं. लोग अपने दुखों से छुटकारा पाने तथा जीवन में सुख सम्रद्धि की प्राप्ति के लिए लक्ष्मी गणेश की पूजा करते हैं. दिवाली के आगमन से पूर्व ही लोग अपने घरों की साफ़ सफाई में बड़े यत्न से लग जाते हैं. घरों को अच्छी तरह साफ़ किया जाता हैं.

दीपावली का महत्व, मनाने का कारण इससे जुड़ी पौराणिक कथा

हर घर इस दिन दिए जलाकर माँ लक्ष्मी जी का स्वागत किया जाता हैं. हमारी यह प्राचीन परम्परा रही है कि जब कृषक अपने खेत की फसल को काटकर घर लाता है तो सर्वप्रथम वह माँ लक्ष्मी और गणेश जी का भोग लगाता हैं. और दीपक जलाकर उनकों धन्यवाद करते हैं. इस अवसर पर लोग अपने घरों से बाहर निकलकर खरीददारी भी करते हैं एक दुसरे के दिवाली पर्व की शुभकामनाएं तथा उपहार के रूप में मिठाई भी भेजते हैं. दीपावली के दिन दुआ खेलना, शराब पीना ये कुछ बेकार चीजे है जिन्हें कुछ लोग इस दिन करने से बाज नही आते हैं. हमें सबकी जीवन में यह दिवाली ढेरों खुशियाँ लाए उनके जीवन की दरिद्रता को दूर करे इसी कामना एवं पर्व की गरिमा को ध्यान में रखते हुए दीवाली का उत्सव मनाना चाहिए.

दिवाली पर पैराग्राफ कविता शायरी

दिवाली पर्व है पुरुषार्थ का,
दीप के दिव्यार्थ का
देहरी पर दीप एक जलता रहे
अन्धकार से यह युद्ध चलता रहे
हारेगी हर बार अंधियारे की यह घोर कलिमा
जीतेगी जगमग उजियारे की स्वर्ण ललिमा
दीप ही ज्योति का प्रथम तीर्थ है
कायम रहे इसका अर्थ वरना व्यर्थ है
आशीषों की मधुर छाँव इसे दे दीजिए
पावन शुभकामना हमारी ले लीजिए
झिलमिल रोशनी में निवेदित अविरल शुभकामना
आस्था के आलोक में आदरयुक्त मंगल कामना

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *