Essay On diwali In Hindi For Class 10 | दिवाली पर निबंध कक्षा 10 के लिए

Essay On Diwali In Hindi For Class 10 | दिवाली पर निबंध कक्षा 10 के लिए: हेल्लों फ्रेड्स आज हम स्टूडेट्स के लिए Diwali Essay For Class 10 में दीपावली का निबंध लेकर आए हैं. यदि आप Hindi Nibandh On Diwali या Diwali Short Essay For 10th Students के बारे में सर्च कर रहे है तो आप सही स्थान पर हैं. हम आज आपके लिए दीपावली का 10 लाइन से लेकर 100,200,300,400,500 शब्दों का तक का छोटा बड़ा दिवाली शोर्ट एस्से 2018 लेकर प्रस्तुत हैं. Essay On diwali Festivalके इस लेख को विद्यार्थी अपनी कक्षा में प्रस्तुती के लिए भी तैयार कर सकते हैं.

Essay On Diwali In Hindi For Class 10Essays on 'Diwali' for students of the class 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11 and 12 as well as for teachers. Find paragraphs Diwali Essay In Hindi For Class 8 · Essay On Diwali In Hindi Diwali, Deepawali, Deepotsav, Hindi essay Diwali, Diwali Hindi essay, an essay

Essays on ‘Diwali’ for Kids of class 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11 and 12 Students. Find paragraphs Diwali Essay In Hindi For Class 8 · Essay On Diwali In Hindi Diwali, Deepawali, Deepotsav, Hindi essay Diwali, Diwali Hindi essay, an essay: जैसा कि हम सभी जानते है बच्चों के लिए विद्यालय में होली दीपावली ईद दशहरा गणतंत्र दिवस जैसे पर्वों पर छोटा बड़ा निबंध प्रस्तुत करने को कहा जाता हैं. जिसे बच्चें अपनी समझ के आधार पर प्रस्तुत करते हैं. हमने प्रयास किया कि आपके लिए दीपावली पर निबंध तैयार किया जाए जिससे स्टूडेंट्स को भाषा व अर्थ के लिहाज से इसे समझने में आसानी रहे. यह दिवाली निबंध पढ़ने से पूर्व आप सभी को हमारी तरफ से इस पावन पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं. आपकों बता दे इस वर्ष 7 नवम्बर को दिवाली मनाई जानी हैं. आप खुश रहे अपनों के साथ मस्त रहे अब पढ़े दिवाली पर छोटा निबंध हमारी कलम से.

Essay On Diwali Hindi For Class 10th Students | दिवाली पर निबंध कक्षा 10 के लिए

दिवाली को दीपों का त्योहार या अंग्रेजी में फेस्टिवल ऑफ लाइट्स के नाम से जाना जाता है यह हिन्दुओं का सबसे बड़ा पर्व है जिन्हें लगभग भारत में रहने वाले अधिकतर सम्प्रदाय के लोगों द्वारा मनाया जाता हैं. प्रकाश पर्व दिवाली की यादे पटाखे फुलझड़ियों के साथ विशेष रूप से जुड़ी होती है, क्योंकि ऐसा मंजर केवल दिवाली पर ही देखने को आता हैं.

यदि आप नही जानते कि दिवाली फेस्टिवल क्यों मनाया जाता है तो आपके बता दे इसे मनाने के पीछे भगवान् राम से जुड़ी हुई कथा है जिनके अनुसार जब प्रभु श्रीराम लंका के दुष्ट शासक रावण का वध का कार्तिक अमावस्या की तिथि को अयोध्या लौटे तो यह अमावस्या की अंधकार से भरी हुई रात थी. लोग अपने राजा के आगमन में हर्ष से फुला नही समा रहे थे. उन्होंने राम, लक्ष्मण एवं सीता के आगमन में घर घर घी के दिए जलाए तथा एक दुसरे को बधाईयाँ दी तब से लेकर आज तक यह पर्व मनाया जाता रहा हैं.

दिवाली पांच दिनों का त्यौहार है जिसके आगमन से कई दिन पहले ही लोग दिवाली की तैयारी में जुट जाते हैं. अपने घरों को लीप पोतकर आकर्षक रंगों से दुल्हन की तरह सजाया जाता हैं. घर घर रंगोली के चित्र बनाए जाते हैं. अमावस्या की रात घरों में पकवान बनाएं जाते हैं. माँ लक्ष्मी की पूजा का प्रबंध किया जाता हैं. घर द्वार पर दीपकों की कतार लगाई जाती हैं. लगता ही नही यह अमावस्या की काली अंधकार भरी रात हैं.

दीपावली हिन्दुओं का पवित्र पर्व है जिसके पीछे लोगों की आस्था एवं उनका धर्म जुड़ा हुआ हैं. इस पर्व को अंधकार पर प्रकास, अन्याय पर न्याय तथा अधर्म पर धर्म की विजय का प्रतीक माना जाता हैं. मगर वर्तमान में कई बुराइयों को जबदस्ती से इसके साथ जोड़ इसकी पवित्रता को खंडित करने के प्रयास होते आए हैं. भगवान् का अपमान करने से न चुकने वाले ये लोग इस रात को शराब जुआ तथा घर से बाहर निकली बहिन बेटियों को बुरी नजर से देखने में रहते हैं. हमे जागृत होकर ऐसे असामाजिक तत्वों का नाश करना होगा.

दीपावली दीपों का त्यौहार

दिवाली का दिन इसलिए भी कुछ लोगों में गम का माहौल पैदा कर देता है कई बार इस दिन सडक दुर्घटना, शराब पीकर दुपहिया वाहन चलाने वालों की घटनाएं अक्सर सुनने को मिलती हैं. कई बार लोग पटाखों से जल भी जाते हैं. अतः हमें इस दिन न केवल अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखते हुए इस पर्व को मनाना चाहिए बल्कि हमारे पड़ोसियों तथा दुनियां के लिए भी कम से कम प्रदूषण फैलाने वाले पटाखे जलाकर एक नई शुरुआत करनी होगी.

त्योहारों के देश भारत में दिवाली मनाने के पीछे जैन धर्म की अपनी एक मान्यता भी हैं. दिवाली के दिन ही जैन धर्म के 24 वें तीर्थकर महावीर स्वामी को इसी दिन निर्वाण मिला था. हमारे सिख भाई इस दिन को बंदी गृह से मुक्त हुए हरगोविंद सिंह जी की याद में भी दिवाली को मनाते हैं.

यह पर्व दो भारतीय ऋतुओं का संगम भी हैं. दिवाली जो हर साल अक्टूबर नवम्बर माह में मनाई जाती हैं. इस समय तक वर्षा ऋतू पूर्ण रूप से समाप्त हो चुकी होती है तथा नई सर्द ऋतू का आगमन हो जाता हैं. इस खुशनुमा माहौल में लोग पर्व को मनाकर स्वयं को आनन्दित भी महसूस करते हैं.


आशा करता हूँ मित्रों Essay On diwali In Hindi For Class 10 का यह लेख आपकों अच्छा लगा होगा, इसमें आपकों दिवाली निबंध कक्षा 10 के बारे में हमने जानकारी दी हैं. आर्टिकल अच्छा लगा हो तो अपने दोस्तों के साथ भी शेयर कीजिए, दिवाली के निबंध भाषण कविता शायरी आदि के लेख भी निचे दिए गये हैं.

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *