Eid ul-Adha In Hindi- ईद-उल-अजहा 2018 क्या है इतिहास जाने हिंदी में

What Is Eid ul-Adha In Hindi Dates 2018 In India: ईद-उल-अजहा मुस्लिम भाइयों का एक पर्व है जिन्हें ईदे-अजहा नाम से भी जाना जाता हैं. ईद-उल-अजहा के अतिरिक्त इस्लाम धर्म में दो अन्य ईद होने का भी प्रावधान हैं जिन्हें ईदुलफित्र एवं मिलादुन्नबी कहा जाता हैं. ईद-उल-अजहा 2018 आगामी 21 अगस्त को है, इसके अगले दिन ईद का पर्व मनाया जाना हैं. Eid ul-Adha प्रेम और आपसी सोहार्द का पर्व हैं. Eid ul-Adha के अन्य नाम तथा इसके इतिहास के बारे में जानकारी 2018 Eid ul-Adha In Hindi में यहाँ दी जा रही हैं.

Eid ul-Adha In Hindi- ईद-उल-अजहा 2018 क्या है इतिहास जाने हिंदी मेंEid ul-Adha In Hindi- ईद-उल-अजहा 2018 क्या है इतिहास जाने हिंदी में

ईद-उल-अजहा का एक अन्य लोकप्रिय नाम नमकीन ईद भी हैं. इसे ईद करबा भी कहा जाता हैं. ईद-उल-अजहा को नमकीन ईद कहने के पीछे कारण यह हैं, कि इस दिन हर मुस्लिम अनुयायी के घर में नमकीन पकवान तैयार किए जाते हैं. बच्चें आम बोलचाल की भाषा में इसे बकरा ईद भी कहते हैं. ईदे कुरबां का अर्थ इस दिन अल्लाह ताला को बकरे की कुर्बानी दिए जाने के कारण कहा जाता हैं.

history Of Eid ul-Adha In Hindi

bakra eid, history of eid ul fitr in hindi, eid in hindi wikipedia, story of bakrid in hindi, eid ul adha wikipedia in hindi, eid ul adha in hindi, eid al adha in hindi, eid ul adha sms in hindi, eid ul adha status in hindi, eid ul adha wishes in hindi, eid ul adha shayari in hindi, eid ul adha mubarak in hindi, eid ul adha quotes in hindi, eid ul adha essay in hindi, eid ul adha message in hindi

इस ईद के पर्व के बाद दसवीं, ग्यारहवीं, बारहवीं और तेरहवीं तिथि को हर मुसलमान हज की यात्रा पर जाना चाहता हैं. तथा वो अल्लाह को खुश करने के लिए जिबह यानी कुर्बानी के रूप में एक पशु की बलि देता हैं. समरकंद, कंधार, इस्फाहान, बुखारा, खुरासान, बगदाद और तबरेज ये उन शहरों के नाम है जहाँ इस्लाम प्रचंड पर है तथा अनादिकाल से यहाँ मुस्लिम धर्म के अनुयायी रहे हैं.
आपसी प्रेम और सोहार्द के इस पर्व की शुरुआत अरबी कंट्री से मानी जाति हैं वही मुगलकालीन रचना तुजके जहांगीरी पर गौर करे तो यह कहती है कि भारत के मुस्लिम लोगों का जो ईद मनाने का तरीका उसका उल्लास, हर्ष एवं क्यामती खुशी, उन देशों के शहरों में नही देखि जा सकती, जो भारत से पूर्व मुस्लिम राष्ट्र बने थे.
मुगल काल के इतिहास में ईदे-अजहा से जुड़ी कई बाते भी पढने को मिलती है जिसके अनुसार मुख्य रूप से जहाँगीर अपनी प्रजा के साथ ईदे-अजहा को बड़े हर्ष के साथ मनाता था. चूँकि दिल्ली की अधिकतर आबादी हिन्दू थी, उन्हें अकेलापन महसूस ना हो इसके लिए शासन की तरफ से ईद के दिन सांयकाल को शाकाहारी व्यंजन निर्मित किये जाते थे. जो हिन्दू बावर्चियों द्वारा बनाए जाते थे. जिन्हें हिन्दू मुस्लिम दोनों समुदाय के लोग साथ बैठकर खाते थे.

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *