Diwali Essay In Hindi For Class 1 – दिवाली पर निबंध कक्षा 1 के स्टूडेंट्स के लिए

Diwali Essay In Hindi For Class 1 – दिवाली पर निबंध कक्षा 1 के स्टूडेंट्स के लिए : जल्द ही दिवाली 2018 का पर्व आ रहा हैं. Essay On Diwali In Hindi For Class 1 Students के इस लेख में पहली कक्षा में पढ़ रहे नन्हे मुन्हे विद्यार्थियों के  लिए हिन्दुओं के सबसे बड़े त्योहार यानी दिवाली पर बेहद छोटा दिवाली निबंध भाषण हिंदी में उपलब्ध करवा रहे हैं. 10 लाइन, 100,150,200,250,300 शब्दों की सीमा में लिखित Diwali Essay In Hindi को आप छोटे बालकों को आसानी से याद करवा सकते हैं. इस शोर्ट दिवाली एस्से को याद करवाने का सबसे अच्छा तरीका यह है कि आप बच्चे के सामने कई बार इस निबंध को बोले तो वह यह दिवाली का छोटा निबंध आपके साथ दोहरा पायेगा.

Diwali Essay In Hindi For Class 1Diwali Essay in Hindi - दीवाली(दीपावली) पर निबंध

Diwali Essay in Hindi – दीवाली(दीपावली) पर निबंध: 2018 में दिवाली 7 नवम्बर बुधवार के दिन मनाई जाएगी. पांच दिनों के इस दिवाली उत्सव पर बच्चों के लिए विद्यालय से राजकीय अवकाश प्राप्त रहता है. वो इस समय को दिवाली की रौनक में हंसी खुशी के साथ व्यतीत कर देता हैं. यदि उन्हें इस समय में भारत के सबसे बड़े पर्वों में से एक दिवाली के बारे में अवगत करवाया जाए तो उनके लिए अपने ज्ञान के दायरे को बढाने एवं पर्व को ठीक ठाक करीबी से समझने में भी मदद मिलती हैं. लीजिए पढियें बच्चों के लिए 100 शब्दों में लिखित दिवाली का निबंध.

Diwali Essay In Hindi For Class 1 ( दिवाली पर निबंध कक्षा 1 के लिए)

दीपावली भारत के सबसे बड़े त्योहारों में से एक हैं इन्हें दीपोत्सव भी कहा जाता हैं. हिन्दू धर्म के इस पर्व को कार्तिक अमावस्या की तिथि को मनाया जाता हैं. दीपावली का अर्थ होता है दीपों की पंक्ति. इसे प्रकाश पर्व भी कहते हैं.

इस दिन लोग अपने घरों की सफाई कर शाम को दीपकों से रोशनी करते हैं. धन एवं एश्वर्य की देवी माँ लक्ष्मी की पूजा की कर सम्रद्धि की कामना की जाती हैं.

दिवाली की पौराणिक कथा के अनुसार माना जाता हैं कि जब भगवान् राम को जब 14 वर्ष का वनवास दिया गया तो वे इसी दिन रावण का वध कर अयोध्या लौटे थे. इनके आगमन की खुशी के अवसर पर अयोध्यावासियों ने घी के दिए जलाकर उनका स्वागत किया था.

यह प्रकाश पर्व हमें असत्य पर सत्य की, अन्याय पर न्याय व अंधकार पर प्रकाश की विजय की शिक्षा देता हैं. हमें बाहरी उजाले के साथ साथ भगवान् से प्रार्थना कर अपनी आत्मा शुद्धि तथा श्रेष्ट विचारों को पैदा करने का सामर्थ्य पाने की शक्ति की कामना ईश्वर से करनी चाहिए.

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *