धनतेरस 2018 के भजन आरती और मंत्र | Dhanteras Mantra Bhajan Geet Aarti Maa Laxmi & Kuber

धनतेरस 2018 के भजन आरती और मंत्र | Dhanteras Mantra Bhajan Geet Aarti Maa Laxmi & Kuber: Dhanteras 2018 & Diwali 2018) ये दो महत्वपूर्ण हिन्दू पर्व है इस साल धनतेरस 5 नवम्बर को एवं दिवाली 7 नवम्बर के दिन मनाई जानी हैं. आज हम धनतेरस पर भजन, धनतेरस की आरती और धनतेरस मंत्र पर बात करेगे. धन तेरस को भगवान धन्वन्तरी जी का पर्व माना जाता हैं. कहते है धन्वन्तरि जी का अवतरण कार्तिक कृष्ण त्रयोदशी को ही हुआ था, उन्होंने अपने कलश से अमृत पिलाकर देवताओं को जीवित किया था. इस दिन माँ लक्ष्मी की पूजा भी की जाती हैं. आज धनतेरस स्पेशल में आपके लिए धन्वन्तरि के भजन, धन्वन्तरि की आरती, धन्वन्तरि के मंत्र तथा लक्ष्मी जी की आरती, लक्ष्मीजी के भजन व लक्ष्मी जी के पूजा मंत्र आपके साथ यहाँ शेयर कर रहे हैं.

Dhanteras Mantra Bhajan Geet Aarti Maa Laxmi & Kuber

कुबेर मंत्र – Aarti, Bhajans, Bhakti Geet kuber ji ki aarti download laxmi ji ki aarti kuber mantra kuber bhagwan ki aarti mp3 download kuber ji ki aarti in hindi text: यहाँ आप धनतेरस के मंत्र भी video के जरिये जानेगे, जिसे 2018 की धन तेरस पूजा में उपयोग किये जा सकेगे. इस अवसर पर  लक्ष्मी भजन और मंत्रों रवन गीतों की गूंज हर ओर सुनाई देती हैं. इस धनत्रयोदशी को धन्वन्तरि की पूजा का समय शाम 6:20 बजे से रात 8:17 बजे तक है.  इस अवधि में पूजा के साथ आप बेहतरीन संगीत कारों के भजन व मंत्र भी चलाएं.

धनतेरस (Dhanteras)कथा मंत्र भजन इन हिंदी

धनतेरस क्यों मनाते है राष्ट्रीय आयुर्वेद दिवस के रूप में यह भारतीय पर्व भारतीय आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति के जनक  धन्वन्तरि के जन्म दिवस के रूप में मनाया जाता हैं. उनके बारे में कहा जाता है कि वे देवताओं के चिकित्सक थे तथा उनका उपचार किया करते थे, जब वे धरती पर अवतरित हुए तो उनके हाथ में धातु का कलश था, इसी मान्यता के चलते आज भी इस दिन बर्तनों की खरीद करना शुभ माना जाता हैं. इस दिन दीप जलाकर और मंत्रोच्चारण करके भगवान धनवंतरि की को प्रसन्न किया जा सकता है.

धनतेरस की पूजा विधि मंत्र और भजन 

धनतेरस (Dhanteras) का दिन खरीददारी को समर्पित दिन हैं, इस दिन कुछ भी नया खरीद कर घर लाना शुभ माना जाता हैं. लोग बर्तन आभूषण आदि की खरीद कर लाते हैं. ऐसा भी कहा जाता है कि इस दिन को खरीदी गई वस्तु तेरह गुना लाभ प्रदान करने वाली होती हैं. आजकल लक्ष्मी मंत्र और श्री धन्वन्तरि मंत्र का भी बड़ा प्रचलन है उन्हें पूजा के समय सुनने भर से व्यक्ति के जीवन में दरिद्रता तथा समस्त दुखों का नाश हो जाता हैं. आप भी धनतेरस के मंत्र के साथ आरती व भजन के साथ इस दिन माँ लक्ष्मी धन्वन्तरि जी तथा कुबेर को प्रसन्न करे.

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *